Prosperity Highway : देश के इस एक्सप्रेसवे पर सफर करते वक्त आएगा पार्क जैसी फीलिंग, 13 लाख पेड़ लगाने के बाद सफल होंगे सुहाना

Prosperity Highway : अगर आप भारत देश के निवासी हैं तो आपको बता दें कि समृद्धि एक्सप्रेसवे जो मुंबई से नागपुर के बीच बनाए जा रहे हैं । आपको बता दें कि 701 किलोमीटर लंबे राजमार्ग अभी 6 लेन का बनाए जा रहे हैं। लेकिन आगे 8 लेन होंगे इस कारण कर को 120 km/h की रफ्तार से चलाए जा सकते हैं। सबसे खास बात यह है कि इस एक्सप्रेसवे पर जल्द ही 150 km/h की स्पीड मिलेंगे।

आज से मैं आपको बता दें कि यह देश का सबसे तेज एक्सप्रेसवे होंगे। क्योंकि अधिकांश एक्सप्रेस वे अभी 120 किलोमीटर प्रति घंटा ही चलते है।

आपको बता दें कि मार्ग का अधिकांश हिस्सा पहाड़ों के बीच से गुजरते हैं । इसीलिए आप 100 की स्पीड में गाड़ी चला सकते हैं 8 सीटर वाहनों के लिए यह स्पीड लिमिट है इसे अधिक कैपेसिटी वाले गाड़ियों के लिए 100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड लिमिट है। जो पहाड़ी क्षेत्रों में 80 किलोमीटर रह जाएंगे।

Prosperity Highway :

यह तैयारी होने के बाद दोनों शहरों के बीच पढ़ने वाले 10 अतिरिक्त जिलों को लाभ होगी। नागपुर, वर्धा, अमरावती, वासीम ,बुलढाणा ,जालना ,औरंगाबाद, नासिक, अहमदाबाद नगर इसमें शामिल हैं । इसके अलावा 14 और जिले भी इसमें शामिल हो जाएंगे। इस एक्सप्रेसवे को बनाने में लगभग 50 हजार करोड रुपए खर्च होने का उम्मीद जताया जा रहा है।

आपको बता दें कि 2024 के आखिरी तक एक्सप्रेसवे का अधिकांश भाग ट्रैफिक के लिए खुले रहेंगे। 12.68 लाख पेड़ आप दोनों और लगाए जा रहे हैं।

इससे शिर्डी और त्रयांबकेश वर जाना काफी आसान होगी शिरडी एक्सप्रेसवे से 5 किलोमीटर दूर है । जबकि त्रयांबकेश वर शिव मंदिर 14 किलोमीटर दूर है।

Prosperity Highway :

आपको बता दें कि रास्ते में 65 फ्लाईओवर बनाए जा रहे हैं 24 इंटरचेंज, 6 टनल , 300 अंदरपास, 400 पैदल यात्रियों के लिए अंडर पास और 400 जानवरों के लिए अंडर पास भी बनाए जा रहे हैं । यह एक्सप्रेस वे ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार पैदा करने में काफी मदद करेंगे।

Prosperity Highway पर बनने वाले टनल ऑस्ट्रेलियाई टनल तकनीक से बनाए जा रहे हैं । इसकी औसत ड्युरेबिलिटी 100 वर्ष होंगे 7.74 किलोमीटर की सबसे लंबे टनल रूट पर पड़े हैं । इससे दूरी तय करने में काफी 25 मिनट लगते हैं । उसे सिर्फ 5 मिनट में पूरा किया जा सकते हैं।

एक सप्रेसवे के किनारे जमीन की कीमतें भी बढ़ जाएंगे और रियल एस्टेट का उद्योग भी बढ़ जाएंगे । सरकार ने दोनों ओर 13 नए शहर बनाने का लक्ष्य रखे हैं। यह स्पष्ट है कि इन नगरों को बसाने के लिए आसपास की जमीन खरीदी जाएगी और रियल एस्टेट का उद्योग तेजी से बढ़ेगी।

येभी ढ़ें >>>>  Electricity : बिजली विभाग करने जा रहे हैं अहम बदलाव हर महीने नहीं आएंगे

Amit Kumar

हलो मैं अमित कुमार, मैं ब्लॉगिंग के इस फील्ड में 2 सालो से कार्यरत हूँ। मैं अभी ग्रेजुएशन पार्ट 3 में हूँ। मैं पढाई के साथ साथ ब्लॉगिंग के फिल्ड में अपना कैरियर बना रहा हूँ। मैं पढाई, नौकरी समाचार, सरकारी योजना तथा मोटर कार, न्यूज़ पॉलिटिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करता हूँ।

Note (नोट) :- इस ब्लॉग की सभी खबरें Google Search से लीं गयीं ,कृपया खबर (News) का प्रयोग करने से पहले वैधानिक पुष्टि अवश्य कर लें. इसमें ब्लॉग एडमिन की कोई जिम्मेदारी नहीं है. पाठक ख़बरे के प्रयोग हेतु खुद जिम्मेदार होगा.

Leave a Comment